झारखण्ड सीएम हेमंत सरकार पर छाये संकट के बादल, भ्रष्टाचार के दो मामलों में नोटिस भेजने की तैयारी

Jharkhand Politics News: पिछले कुछ समय से झारखण्ड के सीएम हेमंत सोरेन की मुश्किलें बढाती जा रही है| कुछ दिनों पहले ही हेमंत सरकार के खिलाफ चुनाव आयोग को इनके भ्रष्टाचार से जुड़ी 2 शिकायतें मिली है| इसके बाद चुनाव आयोग ने इस भ्रष्टाचार मामले से जुड़ी नोटिस भेजने की तैयारी भी कर रही है| इससे यह बात साफ हो रही है, कि आने वाले समय में हेमंत सरकार की मुश्किलें और भी बढ़ने वाली है| यदि वह इस नोटिस की जबाबदेही में अपने आप को स्पष्ट नहीं कर पाते है, तो यह उनके सी एम पद के लिए खतरे की घडी होगी.

झारखण्ड  सीएम हेमंत सरकार पर छाये संकट के बादल, भ्रष्टाचार के दो मामलों में नोटिस भेजने की तैयारी

Jharkhand Politics News: पिछले कुछ समय से झारखण्ड के सीएम हेमंत सोरेन की मुश्किलें बढाती जा रही है| कुछ दिनों पहले ही हेमंत सरकार के खिलाफ चुनाव आयोग को इनके भ्रष्टाचार से जुड़ी 2 शिकायतें मिली है| इसके बाद चुनाव आयोग ने इस भ्रष्टाचार मामले से जुड़ी नोटिस भेजने की तैयारी भी कर रही है| इससे यह बात साफ हो रही है, कि आने वाले समय में हेमंत सरकार की मुश्किलें और भी बढ़ने वाली है| यदि वह इस नोटिस की जबाबदेही में अपने आप को स्पष्ट नहीं कर पाते है, तो यह उनके सी एम पद के लिए खतरे की घडी होगी.

इससे पहले भी चुनाव आयोग ने हेमंत सोरेन सरकार पर खनन का लीज से जुड़ी मामलों के लिए अपना पक्ष रखने को कहा गया था| वहीं दूसरी तरफ चुनाव आयोग का यह मत है, कि झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन अपनी शक्ति का गलत इस्तेमाल कर रहे है| चुनाव आयोग ने यह सूचित किया है, कि हेमंत सोरेन के खिलाफ भ्रष्टाचार से जुड़ी कई प्रकार की शिकायतें मिल रही है| और इन्हीं भ्रष्टाचार की जांच के लिए हेमंत सरकार को नोटिस भेजने की भी तैयारी की जा चुकी है|

भाजपा भी चुनाव आयोग को अपने तथ्य प्रस्तुत करेगा

jharkhand news hindi : झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हेमंत सोरेन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए माइंस प्रकरण के खिलाफ शिकायत की है| वही इसके अलावा भाजपा के कई विधायक और पार्टी के दूसरे नेताओं ने भी सीएम हेमंत सोरेन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है|

एक तरफ तो चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री सचिवालय को नोटिस भेज दिया है| वहीं दूसरी तरफ सीएम भी जबाब देने की तैयारी में लगी हुई है| इसके लिए हेमंत सोरेन, दिल्ली के सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी और कपिल सिब्बल से बातचीत करके चुनाव आयोग को जवाब देने की राय ले रहे है| चुनाव आयोग ने हेमंत सोरेन को 10 मई तक अपना जवाब पारित करने की तारीख दी है|

संकट में हेमंत सरकार ने भी अपना पक्ष रखा

ranchi news update : हेमंत सोरेन ने अपना पक्ष रखते हुए यह भी कहा है, कि पिछले कुछ दिनों पहले उनकी माता के इलाज में व्यस्त रहने के कारण उन्हें जवाब देने में कुछ अतिरिक्त समय लगेगा, हेमंत सोरेन के सहायक और झामुमो के नेता सुप्रियो भट्टाचार्य अपने वरिष्ठ अधिवक्ता से राय और बात विचार करने दिल्ली गए है|

चुनाव आयोग ने भी भाजपा के कई सदस्य को इस शिकायत के खिलाफ अपना मत प्रस्तुत करने के लिए 2 मई तक का समय दिया है| जिसमें भाजपा के विधायक दल और नेता अपना तथ्य प्रस्तुत कर सकते है, और वह चुनाव आयोग को यह बता सकते है, कि वर्तमान सी एम के ऊपर लगाया गया भ्रष्टाचार का आरोप कितना सही और कितना गलत है.

jharkhand news live update

लीज , खनन के लिए लगाये गए भ्रष्टाचार का आरोप के लिए अपना पक्ष प्रस्तुत करने के लिए, भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी और प्रदेश अध्यक्ष के नेता दीपक प्रकाश और भाजपा के विधि विशेषज्ञ बातचीत कर रहे है. चुनाव आयोग से शिकायत के आलोक में तथ्य देने वाले पत्र मिलने के बाद भाजपा भी अपनी कानूनी सलाह पर विचार कर रही है.

हेमंत सरकार भी अपनी पूरी तैयारी में

एक तरफ भाजपा विधायक दल और कार्यकर्ता अपनी पूरी तैयारी में है| वहीं दूसरी तरफ वर्तमान सीएम हेमंत सोरेन भी खनन लीज के मामले में जवाब की पूरी तैयारी कर रहे है| उन्होंने इस नोटिस को लेकर विधि विशेषज्ञों से विशेष राय ली है| उन्होंने कहा है, कि आयोग की इस नोटिस का भ्रष्टाचार के लगाए गए आरोप का जवाब अवश्य दिया जाएगा| उन्होंने यह भी कहा है, कि दिल्ली के सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता और अन्य विधि विशेषज्ञों से इस भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों पर राय और यदि उन्हें जरूरत पड़ी तो वह न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाएगे

उन्होंने एक कटाक्ष करते हुए कहा कि, उनकी नजर सभी पार्टी की राजनीतिक गतिविधियों पर निरंतर बनी हुई है| हेमंत सोरेन सरकार ने दावे के साथ कहां है, कि मेरी इस गठबंधन सरकार पर संकट के बादल नहीं है| फिर भी पार्टी हर परिस्थिति में मुकाबले के लिए तैयार है|

पूर्व सीएम रघुवर दास का क्या कहना है|

यदि हम आम जनता और लोकतंत्र के अनुसार हेमंत सरकार को देखें तो हेमंत सरकार पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोप कहीं ना कहीं सच साबित होता दिख रहा है| भाजपा के द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार कोई साजिश नहीं है| भाजपा के द्वारा लगाए गए आरोप और चुनाव द्वारा भेजे गए नोटिस इस बात की ओर साफ इशारा कर रही है, कि हेमंत सरकार संविधान के लोकतांत्रिक मूल्य को खत्म कर रहे है| वर्तमान सरकार जनता और लोकतंत्र से भी ज्यादा अपने परिवार को फायदा सोच रहे है.

अपने परिवार के नाम पर लाखों और करोड़ों की संपत्ति जमीन और माइंस दिलाई जा रहे है| इसे देखकर ऐसा ही लगता है, कि झारखंड की राजनीति अपने अस्तित्व खत्म करती जा रही है. चुनाव आयोग का नोटिस और भाजपा अध्यक्ष के बढ़ते दबाव को देखकर ऐसा लग रहा है| कि हेमंत सोरेन सरकार की मुश्किलें बढ़ती जा रही है| और चुनाव आयोग के द्वारा भेजी गई नोटिस के कारण हेमंत सरकार की मुश्किलें और बढ़ रही है|