गलती से हुए आविष्कार जिन्होने दुनिया बदल दी

Mistaken Inventions That Changed The World : वैज्ञानिकों के द्वारा कुछ ऐसे आविष्कार जो गलती से ही हो गए लेकिन उस गलती से हुए आविष्कार ने पूरी दुनिया को बदल कर रख दिया. आज हम कुछ ऐसे ही अद्भुत आविष्कार के बारे में जानेंगे, जो वैज्ञानिकों के गलती के कारण दुनिया में काफी प्रसिद्ध हो गए.

गलती से हुए आविष्कार जिन्होने दुनिया बदल दी

गलती करना मनुष्य का स्वाभाविक लक्षण है. चाहे वह स्कूल हो या घर हमें बचपन से ही हमारी गलतियों के लिए हमें सजा मिलती है. लेकिन कभी-कभी कुछ गलतियां ऐसे भी हो जाती है जो किसी नए अविष्कार को जन्म देती है. जी हां वैज्ञानिकों के द्वारा कुछ ऐसे आविष्कार जो गलती से ही हो गए लेकिन उस गलती से हुए आविष्कार ने पूरी दुनिया को बदल कर रख दिया. आज हम कुछ ऐसे ही अद्भुत आविष्कार के बारे में जानेंगे, जो वैज्ञानिकों के गलती के कारण दुनिया में काफी प्रसिद्ध हो गए.

पटाखे का आविष्कार

हर्ष उल्लास और दिवाली के मौके पर चलाए जाने वाले पटाखे गलत आविष्कार का ही नतीजा है. ऐसा माना जाता है कि पटाखों का आविष्कार 1040 में चीन में हुआ था. पटाखे के आविष्कार की कहानी के अनुसार एक चीनी अपने खाली समय में चारकोल सल्फर और सलटपीटर को मिलाकर एक बांस की नली में डाल दिया, बांस की नली में डालते हैं एक विस्फोट हुआ और उस चीनी आदमी का घर पूरा बेसमेंट बर्बाद हो गया. और इस प्रकार एक गलती के कारण पटाखे का आविष्कार हो गया.

कोका कोला का आविष्कार

कोका कोला बनाने वाली कंपनी और लोगों का यह दावा है कि कोका कोला अपनी रेसिपी को किसी के साथ शेयर नहीं करती है. लेकिन कोका कोला का आविष्कार भी गलती से ही हुआ था. यह कहानी एक दवाई बनाने वाली कंपनी की है जिसने सर दर्द की दवाई बनाने के क्रम में कोला नट और कोला के पत्तों का इस्तेमाल से एक एक्सपेरिमेंट कर रहे थे. इस एक्सपेरिमेंट के दौरान उसने कोला नट और कोला के पत्तों को कार्बोनेटेड वॉटर में डाल दिया. जिससे कोका कोला का आविष्कार हुआ, इसमें खोला होने के कारण नहीं इसका नाम कोका कोला पड़ा.

माचिस का आविष्कार

आदिकाल में आग जलाने के लिए मनुष्य पत्थर का उपयोग करता था, इसके बाद माचिस का आविष्कार हुआ और फिर लाइटर का. लेकिन माचिस का आविष्कार एक वैज्ञानिक के गलत एक्सपेरिमेंट का नतीजा है. माचिस का आविष्कार जॉन वॉकर ने 1 दिसंबर 1827 मे किया. जॉन वॉकर एक ब्रिटेन के फार्मासिस्ट थे. अपनी एक एक्सपेरिमेंट के दौरान एक लकड़ी के तीन के ऊपर दवाई बनाने के लिए एक विशेष प्रकार के केमिकल का उपयोग कर रहे थे.

इस एक्सपेरिमेंट के दौरान लकड़ी के तिनके के ऊपर केमिकल बार-बार चिपक रहा था. और जब उसे हटाने के लिए, उन्होंने उसे रगड़ा तो कुछ लकड़ी के तिनके में आग लग गई, और वहीं से उन्हें एक आइडिया आया, और उन्होंने इस स्टिक पर रेड फास्फोरस का यूज करके बाद में मैच बॉक्स का आविष्कार किया.

पोटैटो चिप्स का आविष्कार

आज के समय में बाजार में कई प्रकार के पोटैटो चिप्स बेचे जाते हैं, और लोग उन्हें बड़े चाव से खाते भी हैं, हाल के इतिहास में यदि एक गलती ना होती तो आज हम पोटैटो चिप्स का मजा नहीं ले पाते. ऐसा इसलिए क्योंकि पोटैटो चिप्स का आविष्कार भी एक गलती के कारण ही हुआ था.

बात 1853 की है, जब जॉर्ज क्रम नाम का एक बावर्ची अपने ग्राहक के कहने पर फ्रेंच फ्राई बना रहा था, किस फ्रेंच फ्राई बनाने के क्रम में ग्राहक ने जॉर्ज क्रम से कहां की, फ्रेंच फ्राई ऐसी बनाना जो पतली और कुरकुरी हो. जॉर्ज क्रम ने अपने ग्राहक के लिए फ्रेंच फ्राइ को इतना बारीक और कुरकुरा बनाया कि वह पोटैटो चिप्स के रूप में आ गया और वही से पोटैटो चिप्स का आविष्कार हुआ.

माइक्रोवेव का आविष्कार

पर्सी स्पेंसर ने 1947 में माइक्रोवेव का आविष्कार किया, लेकिन उन्होंने अपने इस गलती से हुए अविष्कार का पेटेंट 8 अक्टूबर, 1 945 को ही ले लिया था. दरअसल एक बार वह अपनी टेलीफोनी और रेडियो संचार से जुड़े कुछ एक्सपेरिमेंट कर रहे थे. इस एक्सपेरिमेंट के दौरान माइक्रोवेव से निकलने वाले तरंग के कारण उनके पैकेट में रखा कैंडी बार पिघलने लगा. फिर उन्होंने इसे एक प्रोजेक्ट की तरह लिया और इसमें कुछ परिवर्तन करके एक मशीन बनाई जो अंदर से खोखले थी और उसके अंदर पॉपकॉर्न को डालकर छोड़ दिया, थोड़ी देर बाद ही पॉपकॉर्न अपने आप फूटने लगा, और इस प्रकार उन्होंने माइक्रोवेव ओवन का आविष्कार किया

भले ही वैज्ञानिकों के द्वारा यह सभी आविष्कार गलती का परिणाम है लेकिन, यह सभी आविष्कार मनुष्य के लिए इतना महत्वपूर्ण है कि आए दिन हम इसका इस्तेमाल करते हैं. वैज्ञानिकों की गलती के कारण हुए इन सभी आविष्कार के लिए वह पूरे विश्व में काफी प्रसिद्ध भी हुए. इसलिए ऐसा कहा जाता है कि गलती करना कोई पाप नहीं है, गलती से ना सीखना बहुत बुरी चीज है. आदि काल में मानव के द्वारा दो पत्थरों को रगड़ के गलती करने के कारण ही मानव जाति आज आग से परिचित हुई है.

पत्थर से औजार बनाने की गलती के कारण ही आज के सभ्य मानव हथियार और औजार से परिचित हुए. गलती से हुए 10 आविष्कार आप को पढ़कर कैसा लगा आप हमें कमेंट में जरूर बताएं.