पाकिस्तान में क्रूरता की सारी हदें पार, नवजात का सिर काटकर गर्भ में ही छोड़ा, महिला की डिलीवरी के दौरान घटना

पाकिस्तान में हिंदू गर्भवती महिला के साथ क्रूरता की सारी हदे पार करने का खौफनाक मामला सामने आया है. यहां डिलीवरी के दौरान नवजात बच्चे का सिर काट कर अलग कर दिया और धड़ को मां के गर्भ में छोड़कर भाग गए. महिला उसी तरह घंटों तड़पती रही. यह शर्मनाक मामला पाकिस्तान के सिंध प्रांत का बताया जा रहा है. 

पाकिस्तान में क्रूरता की सारी हदें पार, नवजात का सिर काटकर गर्भ में ही छोड़ा, महिला की डिलीवरी के दौरान घटना

पाकिस्तान में हिंदू गर्भवती महिला के साथ क्रूरता की सारी हदे पार करने का खौफनाक मामला सामने आया है. यहां डिलीवरी के दौरान नवजात बच्चे का सिर काट कर अलग कर दिया और धड़ को मां के गर्भ में छोड़कर भाग गए. महिला उसी तरह घंटों तड़पती रही. यह शर्मनाक मामला पाकिस्तान के सिंध प्रांत का बताया जा रहा है. 

इस घटना को लेकर बताया गया कि यहां सरकारी अस्पताल में डॉक्टर मौजूद नहीं थे और अनट्रेंड स्टॉफ गर्भवती महिला की डिलीवरी करा रहा था. यह डिलीवरी सिजेरियन हो रही थी, उसी दौरान एक स्टाफ ने बच्चे का सिर काटकर अलग कर दिया. इसके बाद धड़ के हिस्से को महिला के गर्भ में ही छोड़कर फरार हो गए. इससे महिला की जान भी खतरे में पड़ गई. महिला घंटों तक इलाज के लिए तड़पती रही. 

मामले के बारे में बताया जा रहा कि यह दुखद मामला सिंध प्रांत के लियाकत यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल एंड हेल्थ साइंसेज के गायनो डिपार्टमेंट में हुई. मामले में सरकार ने जांच के नाम पर औपचारिकताएं शुरू कर दी हैं. डिपार्टमेंट के डीन प्रोफेसर राहील सिकंदर ने कहा कि इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हैं और टीम का गठन भी कर दिया गया है. 

घटना के बाद भी उसके साथ क्रूरता कर रहे थे डॉक्टर 
32 साल की हिंदू महिला के साथ यह क्रूरता बरती गई. महिला भील जनजाति के थारपारकर जिला पाकिस्तान की रहने वाली है. घटना बीते रविवार की बताई गई है. बताया गया कि परिजन पहले उसे गांव में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर डिलीवरी के लिए ले गए थे. लेकिन यहां इलाज नहीं हुआ तो उसे सरकारी अस्पताल ले जाया गया. जहां उसके साथ बर्बरता किए जाने के बाद उसे एक अन्य अस्पताल ले जाया गया, लेकिन यहां भी उसका इलाज नहीं हुआ. 

महिला का गर्भाशय फट गया, मुश्किलों से बची जान
इस बीच महिला की जान को खतरा बढ़ गया जिसे देखते हुए उसे लियाकत यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल एंड हेल्थ साइंसेज में भर्ती कराया गया और मृत नवजात के शरीर के गर्भ में फंसे हिस्से को बाहर निकाला गया. काफी मुश्किलों के बीच महिला की जान बचाई गई. बताया जा रहा हे कि इस कोशिश मे महिला का गर्भाशय फट गया और जिसके कारण उसके पेट को खोलना पड़ा था.