देश की संसद में मौजूद हैं मां बेटे की ये जोड़ियां, जानिए उनके बारे में..

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में भी मां-बेटे की कई ऐसी जोड़ियां संसद में पहुंची जिनकी चर्चा भारतीय राजनीति में लंबे समय तक होती रहेगी.

देश की संसद में मौजूद हैं मां बेटे की ये जोड़ियां, जानिए उनके बारे में..

आजाद भारत में जब से चुनाव हो रहे हैं तब से संसद भवन में हर बार कुछ ना कुछ अलगा नजारा देखने को मिलता है. लेकिन इतने सालों में देश के सियासी सफर में हमें ऐसे भी मां-बेटे की जोड़ियां देखने को मिलीं, जिन्होंने राजनीति की एक नई इबारत ही गढ़ दी. साल 2019 के लोकसभा चुनाव में भी मां-बेटे की कई ऐसी जोड़ियां संसद में पहुंची जिनकी चर्चा भारतीय राजनीति में लंबे समय तक होती रहेगी. तो आइए जानते हैं उन मां-बेटों के बारे में जो देश के कई अहम मुद्दों पर एक साथ संसद में अपनी बात मुखरता के साथ रखते हुए नजर आते हैं.

सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी


इस लिस्ट में सबसे पहला नाम आता है कांग्रेस की सर्वेसर्वा सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी का. जिन्होंने पिछले चुनावों की तरह इस बार भी लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज कर संसद में प्रवेश किया. हालांकि ये जोड़ी 2009 से संसद में नजर आती रही है. बता दें कि सोनिया गांधी साल 2004 से रायबरेली से तो राहुल गांधी साल 2009 से अमेठी से चुनाव जीत कर लोकसभा पहुंचते रहे हैं, लेकिन 2019 के चुनाव में राहुल गांधी ने करेल के वायनाड संसदीय सीट से और सोनिया ने अपने परंपरागत रायबरेली संसदीय क्षेत्र से जीत दर्ज की है. दोनों कांग्रेस के कार्यकर्मों की तरह ही संसद में एक साथ क्षेत्र और देशहित की बातों को रखते हुए देखे जाते रहे हैं. 

मेनका गांधी और उनके बेटे वरूण गांधी


इसके बाद बात करते हैं गांधी परिवार के एक और धड़े की. जिसमें मेनका गांधी और उनके बेटे वरूण गांधी का नाम शामिल है. इस मां-बेटे की जोड़ी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश से दोबार संसद में प्रवेश किया. मेनका गांधी ने सुल्तानपुर से तो वरूण गांधी ने पीलीभीत से चुनाव जीता. मेनका गांधी जहां साल 1989, 1996, 1998, 1999, 2004, 2009, 2014 और 2019 में चुनाव जीतकर आठवीं बार तो वहीं वरूण गांधी साल 2009, 2014 और 2019 में जीत दर्ज करते हुए तीसरी बार संसद पहुंचे हैं. ये दोनों भी संसद में बड़ी बेबाकी और मुखरता के साथ अपनी बात रखने के लिए जाने जाते हैं.

हेमा मालिनी और उनके सौतेले बेटे सनी देओल


अब बारी आती है बॉलीवुड में अपने-अपने दौर में सफल रहे मां-बेटे की जिनको फिल्मी पर्दे की तरह ही राजनीति में भी जनता ने खूब सराहा. जनता के प्यार की बदौलत ये दोनों एक साथ संसद में प्रवेश करने में सफल रहीं. हम बात कर रहे हैं ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी और उनके सौतेले बेटे सनी देओल की. 2019 लेकसभा चुनाव में हेमा मालिनी ने उत्तर प्रदेश के मथुरा संसदीय सीट से तो सनी देओल ने पंजाब के गुरूदासपुर से जीत दर्ज करते हुए संसद पहुंचे. ये मां-बेटे की जोड़ी भी अपनी बातों को देश के सामने बड़े ही जेरदार ढंग से रखने के लिए जाने जाते हैं.