द्रौपदी मुर्मू के नाम पर संथाल समाज को एक बड़ा सम्मान मिला - जेएमएम विधायक 

देश के राष्ट्रपति चुनाव को लेकर झारखंड की उपराजधनी दुमका में हुल दिवस के बहाने आदिवासी संथाल समाज अपने को गौरवांवित महसूस कर रहे है. वहीं राजनीति पार्टी बीजेपी और जेएमएम की अपनी अपनी राय सामने आ रही है.

द्रौपदी मुर्मू के नाम पर संथाल समाज को एक बड़ा सम्मान मिला - जेएमएम विधायक 

Jhakash news

दुमका: देश के राष्ट्रपति चुनाव को लेकर झारखंड की उपराजधनी दुमका में हुल दिवस के बहाने आदिवासी संथाल समाज अपने को गौरवांवित महसूस कर रहे है. वहीं राजनीति पार्टी बीजेपी और जेएमएम की अपनी अपनी राय सामने आ रही है. झारखंड की सत्ता पार्टी जेएमएम के विधायक की अपनी राय है, वहीं बीजेपी राष्ट्रपति उम्मीदवार के रूप में द्रौपदी मुर्मू के नाम पर संथाल समाज को एक बड़ा सम्मान मिलने की बात कह रही है. 

जेएमएम के वरिष्ट नेता 20 सूत्री कार्यक्रम के झारखंड अध्यक्ष स्टीफन मरांडी ने जहां राष्ट्रपति चुनाव को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को निर्णय लेने की सारी जवाबदेही देने की बात कर कह रहे है कि राष्ट्रपति का पद ऐसा है जो किसी पार्टी का नहीं होता है. अभी इसको राजनीतिकरण किया गया है, जो अच्छा नहीं लगता है. बीजेपी ने आदिवासी कार्ड खेला है जिसमे हमलोगों को सोचना पड़ रहा है. हमलोगों ने सीएम हेमंत सोरेन को इस विषय पर ऑथराइज किया है. जिसमे गठबंधन पार्टी से लेकर बीजेपी वालों से बात कर आने वाले समय मे निर्णय ले. 

वहीं जामा की विधायक सीता सोरेन ने कहा कि राष्ट्रपति की चुनाव को लेकर पार्टी को निर्णय लेना है, जो पार्टी का निर्णय होगा उसमें हमलोग चलेंगे, लेकिन व्यक्तिगत रूप से अगर बात करें बहुत अच्छा लग रहा है महिला को आगे किया गया है तो स्पोर्ट करना चाहिए. पार्टी की ओर से बीजेपी नेत्री पूर्व समाज कल्याण मंत्री लुईस मरांडी ने राष्ट्रपति उम्मीदवार के रूप में एनडीए द्वारा द्रौपदी मुर्मू का नाम नामित करने पर कहा कि हमलोगों के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संथाल समाज को बड़ा सम्मान देने का काम किया है. जिस तरह से समानता की इस देश में की जा रही है. इसका सबसे बड़ा उदाहरण सामने है कि आज देश के सबसे ऊंचे पद पर राष्ट्रपति के रूप में द्रौपदी मुर्मू का नाम लाया गया है.