नूपुर शर्मा की हत्या करने पाकिस्तान से आया रिजवान, हुआ गिरफ्तार

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की निलंबित नेता नूपुर शर्मा की हत्या करने के इरादे से पाकिस्तान से आये घुसपैठिये को बीएसएफ जवान ने राजस्थान के श्रीगंगानगर से गिरफ्तार कर लिया है.

नूपुर शर्मा की हत्या करने पाकिस्तान से आया रिजवान, हुआ गिरफ्तार

Jhakash News

दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की निलंबित नेता नूपुर शर्मा की हत्या करने के इरादे से पाकिस्तान से आये घुसपैठिये को बीएसएफ जवान ने राजस्थान के श्रीगंगानगर से गिरफ्तार कर लिया है. इस शख्स का नाम रिजवान अशरफ बताया जा रहा है. गिरफ्तार घुसपैठिये से पांच एजेंसियां पूछताछ कर रही है.

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का है घुसपैठिया रिजवान

गिरफ्तार घुसपैठिया पाकिस्तान के पंजाब का मंडी बहाव बीन का रहने वाला है. जानकारी के अनुसार रिजवान नूपुर शर्मा की हत्या करने के इरादे से भारत में आया था. उसने मौलवियों की बैठक में एक खौफनाक योजना भी बनायी थी.

इस तरह भारत की सीमा में पहुंचा

जानकारी के मुताबिक हिंदुमलकोट चेकपोस्ट के खंखा चेकपोस्ट से रिजवान भारत की सीमा में दाखिल होने की कोशिश कर रहा था. इसी दौरान बीएसएफ के जवानों ने उसे दबोच लिया. भारत में घुसपैठ करने से पहले पाकिस्तान के मंडी भाउद्दीन क्षेत्र में रिजवान मौलवियों की बैठक में शामिल हुआ था. उसने पहले भी एक बार घुसपैठ की कोशिश की है.

पहली बार घुसपैठ में रहा था विफल

भारत की सीमा में पहली बार घुसपैठ करने में नाकाम रहने के बाद उसने साहीवाल होते हुए हिंदुमलकोट में घुसपैठ की प्लानिंग की है. बताया जा रहा है कि उसने श्रीगंगानगर होते हुए अजमेर जाने की योजना बनायी थी जिसके बाद अजमेर शरीफ जाना था. हिंदी, उर्दू और पंजाबी भाषा जानने वाला रिजवान 8वीं ही पास है. वह नूपुर शर्मा की हत्या करने के इरादे से भारत की सीमा में घुसा था.

16-17 जुलाई की रात बीएसएफ ने पकड़ा

श्रीगंगानगर पुलिस अधीक्षक (एसपी) आनंद शर्मा ने बताया कि 16-17 जुलाई की दरम्यानी रात सीमा के पास से एक शख्स गिरफ्तार हुआ है. शख्स पहचान रिजवान अशरफ (24) के रूप में की गई है. वह पाकिस्तान के कुठियाल शेख का रहने वाला है, उसके बैग से दो चाकू बरामद किए गए है.

धार्मिक कट्टरता की वजह से भारत आया रिजवान

एसपी आनंद शर्मा ने बताया कि रिजवान धार्मिक कट्टरता की वजह से सीमा पार करके भारत में घुसै था. उसने बताया कि नूपुर शर्मा को उसके बयानों की सजा देने के लिए वह भारत की सीमा में दाखिल हुआ था, लेकिन उसे यह मालूम ही नहीं था कि नूपुर शर्मा कहां रहती है.