मुख्यमंत्री के आदेश को ठेंगा दिखा रहे अधिकारी, बिड़ी पत्ता माफिया कर रहे खुल कर अवैध कार्य

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य के सभी अधिकारियों को किसी तरह के अवैध कार्यों पर रोक लगा दी है लेकिन गढ़वा में मुख्यमंत्री के आदेश को अधिकारी ठेंगा दिखा रहे है.

मुख्यमंत्री के आदेश को ठेंगा दिखा रहे अधिकारी, बिड़ी पत्ता माफिया कर रहे खुल कर अवैध कार्य

Jharkhand News: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य के सभी अधिकारियों को किसी तरह के अवैध कार्यों पर रोक लगा दी है लेकिन गढ़वा में मुख्यमंत्री के आदेश को अधिकारी ठेंगा दिखा रहे है. हालात यह है कि महज 15 दिनों में प्रतिबंधित जंगल से लगभग 4 करोड़ का राजस्व का नुकसान बिडी पत्ते के माफिया ने सरकार को दी है और इस कार्यो में जंगल के सरकार भी शामिल है.

गढ़वा जिला का नक्सल प्रभावित क्षेत्र भंडरिया में बिड़ी पत्ता माफिया इनदिनों खुल कर अवैध कार्यो कर रहे है. बिड़ी पत्ता के इस खेल को समझना है तो हम आपको समझाते है कि कैसे ये माफिया नीचे से लेकर ऊपर तक सेटिंग गेटिंग से करोड़ों रूपये का वयरा न्यारा करते है. भंडरिया क्षेत्र को तीन जोन में बांटा गया है जंहा से ठेकेदार बिडी पत्ता का तोड़ाई करते है भंडरिया A Bऔर C। संवेदक A और B का तो टेंडर ले लेते है लेकिन कोई भी बिडी पत्ता ठेकेदार C का टेंडर नहीं लेता है और खेल यही से शुरू होता है. A और B का लाइसेंस की आड़ में बिडी पत्ता ठेकेदार अवैध रूप स्व C से बिडी पत्ती की तोड़ाई करवाते है और A और B में जाकर मिला देते है.

वहीं C से लगे टाइगर प्रोजेक्ट का PTR जंगल आता है जिसका कभी टेंडर होता ही नहीं है और इन्ही जंगलों से कम से कम बिडी पत्ता के ठेकेदार 50 करोड़ की अवैध कमाई करते है जिसमें नीचे से लेकर ऊपर तक के लोग मिले होते है. हाल के दिनों में ग्रामीणों ने दो बिडी पत्ता लदे ट्रैक्टर को जप्त कर वन विभाग के सुपुर्द किया है. विभाग उसपर कार्रवाई कर रही है. जेएमएम के भंडरिया प्रखण्ड अध्यक्ष ने कहाकि इस प्रतिबंधित जंगल में तो अवैध हो रहा है माफिया लोग अवैध रूप से कार्य में लगे हुए है सरकार को करोड़ों का नुकसान हो रहा है.

गढ़वा के भंडरिया क्षेत्र आज भी नक्सल से ग्रसित है इसी क्षेत्र में है बूढ़ा पहाड़ जिस नक्सली आज भी काबिज है माफिया बगैर मिली भगत से इस कार्य को अंजाम नहीं देते है. इस क्षेत्र के रेंज अफसर ने तो ऑन कैमरा स्वीकार किया है कि जंहा वैध होता है, वंहा अवैध होता है अवैध बिडी पत्ता की तोड़ाई माफिया नक्सलियों के मिली भगत से कर रहे है उन्होंने कहाकि जितना बन सका मैंने उतना किया.