झारखंड की गरमाई राजनीति झामुमो के कार्यकर्ता उतरे सड़क पर, किया भाजपा का विरोध प्रदर्शन

Ranchi political news hindi: पिछले कुछ दिनों से झारखंड और रांची की राजनीति गरमाई हुई है, भाजपा सरकार के लगाए गए आरोप से नात शरीफ हेमंत सरकार गुस्से और तनाव में हैं बल्कि झारखंड के स्थानीय लोगों भाजपा के प्रति आक्रोश देखने को मिल रहा है रविवार को झामुमो के कार्यकर्ता रांची के सड़क पर उतर कर भाजपा सरकार के खिलाफ बाजी और जोरदार प्रदर्शन करने लगे. झामुमो का कार्यकर्ताओं ने भाजपा के कई नेताओं के खिलाफ जमकर नारेबाजी और विरोध प्रदर्शन किया.

झारखंड की गरमाई राजनीति झामुमो के कार्यकर्ता उतरे सड़क पर,  किया भाजपा का विरोध प्रदर्शन

Ranchi political news hindi: पिछले कुछ दिनों से झारखंड और रांची की राजनीति गरमाई हुई है, भाजपा सरकार के लगाए गए आरोप से नात शरीफ हेमंत सरकार गुस्से और तनाव में हैं बल्कि झारखंड के स्थानीय लोगों भाजपा के प्रति आक्रोश देखने को मिल रहा है रविवार को झामुमो के कार्यकर्ता रांची के सड़क पर उतर कर भाजपा सरकार के खिलाफ बाजी और जोरदार प्रदर्शन करने लगे. झामुमो का कार्यकर्ताओं ने भाजपा के कई नेताओं के खिलाफ जमकर नारेबाजी और विरोध प्रदर्शन किया.

पूजा सिंघल की आईडी जांच का विरोध

Ranchi news: पिछले दिनों झारखंड आईएएस पूजा सिंघल के ईडी जांच होने के कारण राजनीति और भी गरम हो गई है, इस जांच में पूजा सिंघल के घर से कुल 19.31 करोड़ रुपये बरामद किए गए थे. और इस बात को लेकर झामुमो के कार्यकर्ता सड़क पर इसका विरोध करने लगे, लेकिन दूसरी तरफ के कार्यकर्ता भी सड़क पर उतर गए हम दोनों ने जमकर विरोध किया, हालांकि इस विरोध में भाजपा के निशाने पर हेमंत सोरेन सरकार है, तो झामुमो के निशाने पर भाजपा सरकार. झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं के द्वारा होने वाले विरोध को लेकर भाजपा के कई कार्यकर्ताओं और नेताओं के घरों के बाहर पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई है. इसमें भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और भाजपा के सांसद दीपक प्रकाश को रांची पुलिस के द्वारा सुरक्षा दी जा रही है

भाजपा कार्यालय के पास झामुमो का प्रदर्शन

झामुमो के कार्यकर्ताओं का कहना है कि, भाजपा के द्वारा हेमंत सरकार पर लगाए गए सारे आरोप बेबुनियाद है, यह सिर्फ हेमंत सरकार को बदनाम और अस्थिर करने का एक असाधारण सा प्रयास है, और भाजपा को आदिवासी मुख्यमंत्री पसंद नहीं आ रहे हैं, और भाजपा खुद झारखंड की राजनीति में खुद का वर्चस्व बनाना चाहते हैं.

हालांकि कल के बयान में, हेमंत सोरेन ने भी साफ-साफ कहा कि भाजपा केंद्र सरकार और विभिन्न एजेंसियों के माध्यम से हेमंत सोरेन सरकार पर दबाव बना रही है आज करवा रही है और चुनाव आयोग को उनके खिलाफ भड़का रहे हैं. यदि पूरे झारखंड में देखा जाए तो झामुमो के कार्यकर्ताओं की संख्या काफी अधिक है, और यह सभी कार्यकर्ता भाजपा के खिलाफ हर स्तर पर विरोध जता रहे हैं इनके विरोध का सीधा सा मतलब यह है कि यह नहीं चाहते कि झारखंड में भाजपा की सरकार बने.

भाजपा के कार्यकर्ताओं ने भी जमकर किया विरोध प्रदर्शन

Jharkhand political news hindi: झारखंड की गरमाई राजनीति गरम हो गई एक तरफ झामुमो और दूसरी तरफ भाजपा के कार्य कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे का विरोध करना शुरू किया. अगर भाजपा के कार्यकर्ताओं की सूची देखी जाए तो इनके पास भी कार्यकर्ताओं की कोई कमी नहीं है, और इसका प्रमाण रविवार को हुए विरोध प्रदर्शन में देखने को मिला. पूजा सिंघल की सीबीआई जांच की मांग को लेकर भाजपा के कर कार्यकर्ताओं ने सीबीआई जांच की मांग और खनिज संसाधनों के लूट के खिलाफ सड़क पर उतर गए. और उन्होंने राज्य सरकार के विरोध प्रदर्शन किया इस प्रदर्शन में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मंदसौर में हेमंत सोरेन सरकार का पुतला दहन किया और शव यात्रा भी निकाला गया.

भाजपा के सांसद और विधायक भी इस राजनीति विरोध में हुए शामिल

भाजपा के कार्यकर्ताओं ने रांची प्रदेश के कई नेताओं के खिलाफ नारेबाजी की, उसमें प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश, विधायक सीपी सिंह, नवीन जायवाल, प्रदेश पदाधिकारी सुबोध सिंह गुड्डू के अलावा झामुमो नेताओं और कार्यकर्ताओं के नाम शामिल हैं. वही इस झारखंड मुक्ति मोर्चा के विरोध प्रदर्शन में, भाजपा के अध्यक्ष श्री प्रकाश ने हेमंत सोरेन सरकार पर निशाना साधते हुए, कहां की, यदि वर्तमान सरकार सही है तो पूजा सिंगल प्रकरण के खिलाफ सीबीआई जांच की अनुशंसा पर विचार करें. और इस पर तर्क दें.

विरोध के इस मुद्दे को लेकर राज्य के प्रदेशों में भाजपा के कई सांसद और विधायक नेताओं ने भी इस विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया. और हम सरकार के खिलाफ पुतला दहन किया. राज्य की इस राजनीतिक अस्थिरता को देखकर यह कहा जा सकता है, कहीं राज्य सरकार भी अपने ही बिछाए जाल में जा रहे हैं. 6 मई को देशभर के 25 ठिकानों पर छापेमारी जप्त की गई कुल राशि और पूजा सिंघल मामले में उनके वर्तमान सरकार के पास कोई जवाब नहीं है.