जामताड़ा के बाद दुमका में साइबर क्रिमिनल का बन हब, ऐसे करते हैं ठगी

पहले जामताड़ा अब उपराजधानी दुमका का जरमुंडी प्रखंड साइबर अपराधियों का अड्डा बनता जा रहा है. साइबर अपराधी रोज आ रहे नये टेक्नोलॉजी के साथ नये-नये तकनीक का इस्तेमाल कर भोले-भाले लोगों को ठगने का काम कर रहे है.

जामताड़ा के बाद दुमका में साइबर क्रिमिनल का बन हब, ऐसे करते हैं ठगी

झकास न्यूज़ 

दुमकाः पहले जामताड़ा अब उपराजधानी दुमका का जरमुंडी प्रखंड साइबर अपराधियों का अड्डा बनता जा रहा है. साइबर अपराधी रोज आ रहे नये टेक्नोलॉजी के साथ नये-नये तकनीक का इस्तेमाल कर भोले-भाले लोगों को ठगने का काम कर रहे है. ये खुलासा पुलिस अधीक्षक ने करते हुए कहा कि गुप्त सूचना के आधार पर जरमुंडी के चोरखेदा गांव से पकड़ाए तीन साइबर ने इसका खुलासा किया है. साइबर अपराधी के द्वारा टारगेटड आदमी के मोबाइल पर एप्प भेजा जाता है जैसे ही एप्प डाउनलोड किया जाता है साइबर अपराधी मोबाइल का सिम क्लोन कर लेते है जिसके माध्यम से मोबाइल का सारा डिटेल अपराधी को आसानी से मिल जाते है. उसके आधार पर ठगी के घटना को अंजाम देते है. दुमका पुलिस द्वारा पकड़ाये अपराधी शलेन्द्र कुमार मंडल, गुड्डू मंडल, और मुकेश मंडल के पास से कई मोबाइल फोन, फर्जी सिम कार्ड, डेविड कार्ड बरामद किया है. 

साइबर अपराधी लैपटॉप का भी इस्तेमाल करते है, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है. पुलिस ने खुलासा करते हुए कहा कि ये सभी साइबर अपराधी संघटित होकर घटना को अंजाम देते है. पुलिस अधीक्षक ने कहा कि पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी जिसके आधार पर पुलिस टीम का गठन कर साइबर डीएसपी के नेतृत्व में छापेमारी की गई जिसमें 20 से 22 युवक संगठित होकर लैपटॉप लेकर बात कर रहे थे. पुलिस को देखते ही सभी भागने लगे जिसमे पुलिस ने तीन साइबर अपराधी को खदेड़ कर गिरफ्तार किया है, तीनो अपराधी से पूछताछ की जा रही है. पुलिस द्वारा 19 साइबर अपराधी को चिन्हित कर मामला दर्ज की है. बहरहाल दुमका में साइबर अपराधी सक्रिय होते जा रहे है जिस तरह नये टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल साइबर अपराधी करने लगे है, इससे लोगों को सावधान होने की आवश्यकता है.