बंदूक से निकली गोली को बुलेट प्रूफ जैकेट कैसे रोक लेते हैं?

बुलेट प्रूफ जैकेट कैसे काम करता है और बुलेट प्रूफ जैकेट किस चीज का बना होता है. अगर बुलेट प्रूफ जैकेट से जुड़ी यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें

बंदूक से निकली गोली को बुलेट प्रूफ जैकेट कैसे रोक लेते हैं?

आपने हाई स्पीड से निकली हुई बंदूक की गोली को किसी इंसान के शरीर में घुसने से रोकने वाली बुलेट प्रूफ जैकेट के बारे में जरूर सुना होगा. यह बुलेट प्रूफ जैकेट बंदूक से निकली गोली को रोकने और इंसान को जख्मी होने से बचाता है. लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि यह बुलेट प्रूफ जैकेट कैसे काम करता है. यह बुलेट प्रूफ जैकेट किस चीज का बना होता है.

अगर आप यह सोच रहे हैं कि यह बुलेट प्रूफ जैकेट किसी लोहे या स्टील की परत की बनी होती है तो आप बिल्कुल गलत है. क्योंकि अगर यह किसी लोहे या स्टील की परत की बनी होगी तो यह काफी भारी हो जाएगा. इसलिए इस बुलेट प्रूफ जैकेट को कई प्रकार के अलग-अलग सेरेमिक लेयर से मिलाकर बनाया जाता है. चलिए जानते हैं, की बुलेट प्रूफ जैकेट कैसे बनाया जाता है, और बंदूक की गोली को या कैसे रोक पाती है.

बुलेट प्रूफ जैकेट कैसे काम करता है

बंदूक से निकली हाईस्पीड गोली को रोकने वाले यह बुलेट प्रूफ जैकेट मुख्य रूप से चार प्रकार के लेयर से मिलकर बनी होती है. जिसे ceramic layer, aramid layer, vertex layer, poly-ethylene layer के नाम से जानते हैं. अब चलिए जानते हैं कि यह चारों लेयर किस प्रकार बंदूक से निकली गोली को रोकती है.

  • Ceramic Layer

बुलेट प्रूफ जैकेट में सबसे ऊपर Ceramic Layer होती है. और सबसे पहले बुलेट इसीलिए से टकराती हैं, यह लेयर बंदूक से निकली गोली की स्पीड को कम कर देती है, और साथ ही गोली के आगे के नुकीले भाग को चपटा बना देते हैं. जिसे गोली की स्पीड और गोली के आगे का क्षेत्रफल कम हो जाता है.

  • Aramid Layer

Ceramic Layer से गोली गुजरने के बाद यह Aramid Layer से आकर टकराती है, यह लेयर बहुत ही ज्यादा मजबूत होती है. मजबूत फाइबर से बनी यह लेयर बुलेट के संपर्क में आते ही पीछे की ओर स्ट्रेस हो जाता है और यह बुलेट की सारी काइनेटिक एनर्जी को अपने आप में Observer करके बुलेट प्रूफ जैकेट के पूरे सतह पर फैला देता है. जिससे बुलेट की एनर्जी और स्पीड और भी कम हो जाती है.

  • Vertex Layer

Aramid Layer से गुजरने के बाद बुलेट Aramid Layer से जाकर टकराती है. Vertex layer भी Aramid Layer की तरह ही काम करता है. जो और भी ज्यादा Titlely Viewed रहता है. जो बुलेट की रफ्तार को और भी कम कर देता है.

  • Poly-Ethylene Layer

अंत में बुलेट Poly-Ethylene Layer से जाकर टकराती है. हाई टेंपरेचर पॉलीएथिलीन के कांटेक्ट में आते हि, पॉलीएथिलीन का वह भाग पिघल कर बुलेट को अपने आप में जकड़ लेता है. जिससे गोली आगे नहीं बढ़ पाती. और इस प्रकार बुलेट प्रूफ जैकेट में इस्तेमाल होने वाले 4 लेयर किसी भी बंदूक से निकली हुई गोली को इंसान के शरीर को जख्मी होने से बचा लेते हैं.

विश्व में कई देशों के सैनिक पुलिस और सुरक्षा बल आज इस प्रकार के बुलेट प्रूफ जैकेट का उपयोग कर रही है, साथ ही कई देश बुलेट प्रूफ जैकेट को और एडवांस टेक्नोलॉजी से लैस कर रही है. ताकि यह बुलेट प्रूफ जैकेट आर्मी पुलिस और सुरक्षा बल को और भी ज्यादा सुरक्षा प्रदान कर सकें.

अब आप समझ चुके हैं कि, बुलेट प्रूफ जैकेट कैसे काम करता है और बुलेट प्रूफ जैकेट किस चीज का बना होता है. अगर बुलेट प्रूफ जैकेट से जुड़ी यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें