झारखंड में थर्ड फ्रंट का गठन, रघुवर दास के लिए मुसीबत !

देश के 4 राज्यों में भगवा लहराने के बाद के बाद झारखंड की राजनीति भी शुक्रवार को करवट ले ली...5 विधायकों ने मिलकर झारखंड लोकतांत्रिक मोर्चा का गठन किया है

झारखंड में थर्ड फ्रंट का गठन, रघुवर दास के लिए मुसीबत !

Jharkhand: देश के 4 राज्यों में भगवा लहराने के बाद के बाद झारखंड की राजनीति भी शुक्रवार को करवट ले ली...5 विधायकों ने मिलकर झारखंड लोकतांत्रिक मोर्चा का गठन किया है....इस मोर्चा में आजसू के दो विधायक सुदेश महतो और लंबोदर महतो, निर्दलीय विधायक सरयू राय, निर्दलीय विधायक अमित यादव और एनसीपी विधायक कमलेश सिंह शामिल हैं.

आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो के नेतृत्व में मोर्चा काम करेगा...इस मोर्चे का नाम जी 5 रखा गया है.. अमित यादव मोर्चा के मुख्य सचेतक होंगे...यही नहीं मोर्चा के सभी विधायक विधानसभा में एक साथ बैठेंगे.


सरकार पर दबाव बनाने की रणनीति 
राजनीतिक जानकारों की मानें तो थर्ड फ्रंट से एक साथ कई लक्ष्य को साधने की तैयारी है...पांच विधायक मिलकर सरकार पर किसी भी मांग को लेकर दवाब बना सकेंगे...राज्यसभा चुनाव में पांचों विधायक की भूमिका अहम हो जाएगी..सत्ता पक्ष और बीजेपी दोनों को इनकी जरूरत पड़ेगी.

रघुवर दास को राज्यसभा में जाने से रोकना
सूत्रों की मानें तो बीजेपी आलाकमान पूर्व सीएम रघुवर दास को राज्यसभा भेजने के मूड में है...लेकिन सरयू और सुदेश महतो दोनों रघुवर दास को अपना दुश्मन मानते हैं...दोनों नेता किसी भी हाल में रघुवर दास को राज्यसभा का टिकट कंफ्रर्म नहीं होने देंगे.

सुदेश महतो को दर्द है कि विधानसभा चुनाव में रघुवर दास के कारण बीजेपी से गठबंधन नहीं हो सका...जिसके कारण दोनों दलों को नुकसान उठाना पड़ा...वहीं रघुवर दास और सरयू राय के बीच सियासी अदावत किसी से छिपी नहीं है..