कुत्ते और कुतिया की अनोखी शादी की दावत में पहुंचे सैंकड़ों लोग, गाजे-बाजे के साथ पहुंचे बाराती

कुत्ते और कुतिया की अनोखी शादी की दावत में पहुंचे सैंकड़ों लोग, गाजे-बाजे के साथ पहुंचे बाराती

झकास न्यूज

बिहार के मोतीहारी जिले के मजूराहा गांव में एक अनिखी शादी की खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई. दरअसल, यहां एक कुत्ते और कुतिया की धूमधाम से शादी कराई गई. कुत्ते की बारात पूरे बैंड बाजे के साथ निकली गई. जिसमें बरातियों ने भी जमकर डांस किया. दोनों को शादी शुक्रवार के रात को हुई, जिसके बाद से हर तरफ इस शादी की चर्चा हो रही है. कुत्ते का नाम कल्लू तो कुतिया का नाम बसंती बताया जा रहा है.

विधि विधान के साथ हुई शादी 

यह अनोखी शादी पूरे विधि विधान के साथ कराई गई. इस शादी में सारी रीति रिवाजों के साथ रस्में भी निभाई गईं है. जहां द्वार पूजा से लेकर कलेवा एवं मटकोर तक किया गया है. शादी के लिए दोनों को नए कपड़े पहनाए गए और बसंती यानी की कल्लू की दुल्हन को लाल जोड़े में सजाया गया और कल्लू ने सिर पर सेहरा पहना था. इस शादी को कराने के लिए पंडित को भी बुलाए गए. जिसके बाद पंडित जी ने विधि विधान के साथ दोनों की शादी संपन्न कराई गई.

शादी से पहले नामकरण

कुत्ते के मालिक नरेश सहनी एवं कुतिया की मालकिन सबीता देवी ने शादी से पहले दोनों का नामकरण किया था. सबीता देवी ने अपने बच्चे को लेकर मन्नत मांगी थी. मन्नत पूरी होने के बाद कुत्ते एवं कुतिया का शादी कराने का निर्णय लिया गया. शादी के लिए बैंड बाजे के साथ डीजे का भी इंतजाम था. शादी में शामिल लोगों ने बारात में जमकर डांस किया और बारात में आए लोगों के लिए डावात का भी इंतजाम किया गया था.

400 लोग हुए शामिल

इस अनोखी शादी में भोज का भी आयोजन किया गया, जिसमें तकरीबन 400 लोग शामिल हुए थे. शादी में वरमाला होने के बाद पूरे गांव के लोगों ने डावात का लुत्फ उठाया. शादी के बाद लोगों ने नए जोड़े को तोहफे भी दिया. इस शादी को कराने वाले पंडित धर्मेंद्र कुमार पांडेय ने कहा कि कुत्ते और कुतिया की शादी सभी को करानी चाहिए. ये भैरव के रूप होते हैं. इस तरह की शादी कराने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है. इस शादी को लेकर लोग हर तरफ तरह तरह की चर्चा कर रहे हैं.